काला सोना किसे कहते हैं in hindi | Kala Sona Kise Kahte Hai?

2
काला सोना किसे कहा जाता है

क्या आपने कभी काला सोने का नाम सुना है?? अगर नहीं, तो हम आज के इस आर्टिकल में आपको “काला सोना किसे कहते हैं / Kala Sona Kise Kahte Hai, के बारे में detail information देने वाले है.

काला सोना किसे कहा जाता है / kala sona ka kise kaha jata hai, ये जानना बेहद जरुरी है. आजकल के कम्पटीशन एग्जाम में ये सवाल अक्सर पूछा जाता है लेकिन students को सोने के बारे में तो अक्सर पता होता है

लेकिन जब काला सोना से जुड़ा प्रश्न पूछा जाता है तो अक्सर सही जानकारी ना होने की वजह से गलत उत्तर दे देते है. तो अगर आप भी ऐसी गलती नहीं करना चाहते है तो हमारे इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े. 

काला सोना किसे कहते हैं और क्यों?

काला सोना किसे कहते हैं gk में अक्सर ये प्रश्न पूछ लिया जाता है लेकिन अगर आप ये सोचते है कि जैसे एक सोना गोल्डन रंग का होता है तो काला सोना काले रंग की कोई धातु तो आप यहाँ गलत है.

काला सोना पेट्रोलियम पदार्थ के अंतर्गत आने वाले कोयले को कहा जाता है। यह एक पदार्थ है. कोयला काले रंग का होता है इसलिए, इसको काला सोना बोला जाता है. ये तो आप सभी को पता होता ही होगा कि कोयला कार्बन डाइऑक्साइड, हाइड्रोजन, ऑक्सीजन, कम मात्रा में नाइट्रोजन, सल्फर और फास्फोरस का मिश्रण होता है।

इसके अलावा खाने वाले पदार्थों में अफीम को भी काला सोना कहा जाता है लेकिन भारत में अफीम पर बैन लगाया हुआ है. ये एक तरह का नशीला पदार्थ है जिसका उपयोग दवाइयों में रोग को ठीक करने के लिए भी होता है और नशे करने के लिए भी होता है.

चलिए, अब आपको बताते है कि आखिर कोयले को काला सोना क्यों कहा जाता है?

दोस्तों, कोयले को काला सोना इसलिए कहा जाता है क्यूंकि कोयले से ऊर्जा पैदा होती है जिसका उपयोग इंसान अपनी जरूरतों को पूरा करना के लिए करता है जैसे बिजली बनाना, भोजन बनाना, रेलवे इंजन में भाप बनाने के लिए, आदि.

इसके अलावा जैसे सोना ज़मीन में से निकलता है, ऐसे ही कोयला भी जमीन में से निकलता है और सोने की तरह ही काफी rare है.

क्यूंकि कोयला और कच्चा तेल, दोनों ही जमीन में से निकलते है. अब आपको ही पता ही होगा ये दोनों बनने में काफी समय लेते है. कोयले और कच्चे तेल से काफी बिज़नस भी किया जाता है जो बहुत ही ज्यादा profitable भी है. इसलिए, इन्हें काला सोना कहा जाता है.

दोस्तों आपको सुनके अचम्बा होगा कि काले सोने में पेट्रोलियम पदार्थ को सबसे ऊपर का दर्जा दिया गया है।  ऐसा इसलिए क्योंकि कच्चे तेल को purify करते समय काफी सारे महत्वपूर्ण प्रोडक्ट्स बनते है। जैसे कि मिटटी का तेल, डीजल, जेट फ्यूल, पेट्रोल, पेट्रोलियम जेली आदि।

जिनका इस्तेमाल पूरी दुनिया करती है। पूरी दुनिया भर से इन प्रोडक्ट्स की डिमांड बहुत ज्यादा है और इनका उपयोग रोजाना जनजीवन में होता है इसलिए इसकी वैल्यू बहुत ज्यादा है जिनके कारण इसको काला सोना का नाम दे दिया गया है। जो देश तेल का उत्पादन करते है वह सारे देश आज के समय में बहुत ज्यादा अमीर देशो की सूचि में आते है।

कच्चे तेल का निर्यात करने वाले देश काफी ज्यादा अमीर है इसमें सिर्फ और सिर्फ कच्चे तेल की ही अहम भूमिका है। इसमें सऊदी अरबिया, रूस, इराक आदि शामिल है। सऊदी अरबिया के बारे में तोः आज बच्चा बच्चा जनता है कि वह देश तेल बेचकर ही इतना ऊपर गया है।

कोयले को काला सोना क्यों कहा जाता है?

कोयला भी काला है और ईंधन का एक सामान्य स्रोत है कोयले को अनाधिकारिक तौर पर काला सोना कहा जाता है क्योंकि कोयले की खुद की वैल्यू बहुत ज्यादा होती है। और पूरी दुनिया में इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल होता है। जैसे कि कोयले इस्तेमाल बिजली उत्पादन में, रेल के इंजन को चलाने में आदि ।

कोयला एक कार्बन सामग्री है जिसे पृथ्वी की पपड़ी से निकाला जाता है। कोयले को काला सोना कहे जाने के कई कारण हैं।

  • एक जैसे सोना, कोयले का खनन पृथ्वी की पपड़ी से किया जाता है।
  • वे उच्च दबाव और तापमान से बनते हैं।
  • यह एक ज्वलनशील पदार्थ है जिसका उपयोग इन दिनों 60% बिजली के उत्पादन में किया जाता है।
  • सोने की तरह, कोयला गैर-नवीकरणीय है और इसकी अत्यधिक मांग है।

इन्हीं कारणों से कोयले को “काला सोना “ भी कहा जाता है।

अफीम को काला सोना क्यों कहा जाता है?

भारत में जो किसान अफीम को उगाते है इसकी खेती करते है वह लोग अफीम को काला सोना कहते है। अफीम को भी काला सोना इसलिए कहा गया है क्योंकि यह बहुत ज्यादा महंगा होता है इसकी बहुत ज्यादा वैल्यू होती है। अफीम खसखस ​​(पापावर सोम्निफरम एल.) से निकाला गया पदार्थ है। इसका सेवन और दवाइयों का उपयोग पुराने समय से चलता आ रहा है ।

भारत के अंदर अफीम को उगाना बिलकुल इललीगल है और अगर किसी को अफीम की खेती करनी है तो उसको सरकार से स्पेशल परमिशन लेनी होगी। परमिशन दी जाने के बाद ही वह अफीम को ऊगा के उसकी खेती कर सकता है।

काला सोना से सम्बन्धित गूगल पर पूछे जाने वाले अन्य प्रश्न और उत्तर

काला सोना किसे कहा जाता है?

पेट्रोलियम के पदार्थ जमीन के अंदर दबे कच्चे तेल, कोयला, अफीम को काला सोना कहा जाता है।

काला सोना किसका उपनाम है?

कोयला

भारत में कोयला कहाँ पर पाया जाता है?

वर्तमान में भारत पूरी दुनिया के कुल कोयला संसाधनों के मामले में आठवें स्थान पर है। भारत में कोयले के भंडार मुख्य रूप से वर्तमान नदी घाटियों यानी दामोदर घाटी, सोन-महानदी घाटी, पेंच-कान्हन घाटी, वर्धा-गोदावरी घाटी आदि के साथ मिलाये जाते हैं। भारत में कोयला भंडार का बड़ा हिस्सा दक्षिण-पूर्वी इलाकों तक ही सीमित है…

पेट्रोलियम को कौन सा सोना कहा जाता है?

पेट्रोलियम को काला सोना कहा जाता है। यह ज़मीन से काला होकर निकलता है और पेट्रोल का व्यवसाय काफी अच्छा पैसा प्रदान करता है इसलिए इसको काला सोना कहा जाता है।

रोमन साम्राज्य में काला सोना किसे कहा जाता है?

रोमन साम्राज्य में काला सोना काली मिर्च को कहा जाता था। रोमन साम्राज्य में काली मिर्च इतनी महंगी व कीमती थी की इसे काला सोना कहा जाने लगा था।

निष्कर्ष

हमें पूरी उम्मीद है कि आपको काला सोना किसे कहते हैं सवाल का जवाब मिल गया होगा और हमे उम्मीद है आपको हमारा “काला सोना किसे कहा जाता है” आर्टिकल पसंद आया होगा। अगर पसंद आया है तो आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों और फेमिली के साथ जरूर शेयर कीजिये.

साथ ही साथ अगर आपको कोई ओपिनियन, प्रश्न है या आर्टिकल में कुछ सुधार करना हो तो हमें कमेंट सेक्शन में कमैंट्स करके जरूर बताएं.

धन्यवाद!!!

Previous articleDakshin Bharat ki Ganga Kise Kahte Hai? | दक्षिण भारत की गंगा किसे कहते है?
Next articleपत्र क्या है | पत्र कितने प्रकार के होते हैं | Patra Kitne Prakar Ke Hote Hain?

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here