तहसीलदार की शिकायत कहाँ करें और कैसे करें? ये है Best 3 तरीके | Complaint Against tehsildar

1
तहसीलदार की शिकायत कहाँ करें और कैसे करें

गांव या शहर में रहने वाले सभी लोगों को अपने जमीन जायदात इत्यादि को लेकर कभी न कभी तहसीलदार और लेखपाल से काम पड़ता रहता हैं। लकिन क्या आपको पता है की लेखपाल या तहसीलदार आपका काम नहीं करता या फिर आपसे रिश्वत मांगता है, तो आप उनकी शिकायत भी कर सकते हैं। अगर आपको नहीं पता कि लेखपाल की शिकायत कैसे करनी है? तो हमने ऑलरेडी इसके बारे में बताया हुआ है।

इसीलिए आज के इस लेख में हम आपको बताने वाले है की आप तहसीलदार के खिलाफ़ शिकायत कैसे कर सकते हैं। तहसीलदार की शिकायत कहाँ करें और कैसे करें संपूर्ण जानकारी हिंदी में | Complaint Against tehsildar इसके बारे में विस्तार से जानकारी देने वाले हैं। तो आइए समझते हैं पूरा प्रॉसेस, तहसीलदार की शिकायत कहाँ करें?

तहसीलदार कौन होता हैं? (Tehsildar kon hota Hai )

तहसीलदार की शिकायत कहाँ करें? यह जानने से पहले हम तहसीलदार कौन होता है और तहसीलदार कौन कौन से काम करता है इसके बारे में जान लेते हैं।

तहसीलदार भारत सरकार का एक राजस्व अधिकारी होता है। एक तहसीलदार अपनें तहसील का सर्वेसर्वा होता है, साधारण भाषा में हम इन्हें अपनें तहसील का मुखिया भी कह सकते है। जैसे एक जिलाधिकारी अपने जिले का मुखिया होता है, वैसे ही तहसीलदार अपने तहसील का सर्वोपरि आदमी होता है और ये महिला या पुरुष कोई भी हो सकता है। तहसीलदार का मुख्य कार्य प्रशासनिक कार्यों का निरीक्षण करनें के साथ ही तहसील में कानून व्यवस्था बनाये रखना होता है।

इसके साथ ही जनपद में निवास करनें वाली जनता के समस्याओं का निदान करना भी इनके अधिकार क्षेत्र में आता है। तहसीलदार के अंतर्गत आने वाले सभी ग्राम पंचायतों से जुड़े हुए राजस्व के कार्य को करने एवं उनकी देखरेख करने का कार्य तहसीलदार का ही होता है।

निम्न स्थिति में आप अपने तहसीलदार के खिलाफ़ शिकायत दर्ज करवा सकते हो।

  • भूमि सम्बंधित विवादों का निष्पक्ष उकेल न लाने पर
  • किसानों से और उनकी जमीन से जुड़े विवादों का निस्तारण न करने पर
  • घर और जमीन की रजिस्ट्री से सम्बंधित कार्य करने से मना करने या इसके लिए लांच रिश्वत लेने पर।
  • पटवारी या निम्न स्तर से जुड़े लोग कुछ गलत कर रहा हो तो तहसिलदार उसपे कुछ एक्शन न लें 
  • जाति प्रमाण पत्र और मूल निवास प्रमाण पत्र इतियादी जैसे दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने के लिए लांच रिश्वत लेना
  • किसी भी प्रकार की फसल के नुकसान पर किसानों को मुवावजा प्रदान न करना।
  • कोई सरकारी काम या दस्तावेज बनाने के लिए लांच रिश्वत मांगने पर इतियादी।

आइए जानते है ऐसी परिस्थिति पर कहा और किसे शिकायत करें।

तहसीलदार की शिकायत कहाँ करें? (Tehsildar Ki Shikayat Kaise Karen)

वैसे तो तहसिलदार की नियुक्ति राज्य स्तर पर होती है, ये निष्पक्ष और आपके हित में ही लिए कार्य करते हैं। लेकिन कई बार तहसीलदार अपोजिशन पार्टी के साथ में सांठ-गांठ कर लेते है और पैसे लेकर आपके जमीन इत्यादि कागज़ों को दबा दिया जाता है। या फिर आपके काम पर रोक लगा देते हैं। और इनकी मिली भगत की वजह से शिकायत करने के बावजूद भी जांच नहीं हो पाती है। जिससे आम आदमी जो धनराशि या लांच रिश्वत देने के काबिल नहीं है उनका काम ही नहीं होता है।

आपको एक बार अपने तहसीलदार से बात कर लेनी चाहिए इसके बारे में फिर भी अगर वो आपका नहीं करता है या रिश्वत मांगता हैं तो आप इसकी शिकायत दर्ज कर सकते हों। शिकायत ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनों तरीकों से कर सकते हों।

जिला कलेक्टर से शिकायत करें

तहसीलदार से जुडी कोई भी शिकायत है तो अपने जिल्ले के जिल्लाधिकारि को आवदेन पत्र लिख के कर सकते हों।

इसके लिए आपके जिला कलेक्टर कार्यालय को विजिट करना होगा। वहां जाकर आपको अपनी शिकायत को लिखित रूप से देना होगा।  शिकायत दर्ज करवने के लिए आपको एक आवेदन पत्र लिखना होगा। इस आवेदन पत्र के साथ संबंधित दस्तावेज या फिर कोई प्रूफ ईत्यादि है तो उसे इस आवेदन पत्र के साथ JOINT कर ले। हमने अन्य लेख में जिला कलेक्टर से शिकायत कैसे करें इसके बारे विस्तार से बताया हुआ है।

तहसीलदार की ऑनलाइन शिकायत कैसे करें

अगर आप कलेक्टर कचेरि के धक्के खाके थक चुके हों या फिर तहसीलदार के खिलाफ़ ऑफलाइन शिकायत करने पर कोई कार्यवाही न होने पर आप ऑनलाइन आवेदन कर सकते हों। और वैसे भी भारत में आज भी कई कागज़ी शिकायतों को दबा दिया जाता है। इस लिए ऑनलाइन आवेदन करना आसन और बेस्ट तरीका है।

आप अपने राज्य के Jansunwai Portal पर जाकर आसानी से ऑनलाइन शिकायत दर्ज कर सकते हों।

अगर कोई शिकायत कर्ता  यूपी से है तो वह jansunwai.up.nic.in पोर्टल के माध्यम से घर बैठे अपनी समस्या को दर्ज कर सकते है।

ऑनलाइन जन पोर्टल में आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर, राज्य व जिले का नाम ईत्यादि डिटेल्स भरकर रजिस्टर कर लेना है। रजिस्ट्रेशन होने के बाद उसी पासवर्ड से लॉगिन करके आप गाँव की समस्या, मांग और अपने तहसीलदार के खिलाफ अपने शिकायत को लिख करके और साथ ही रिलेटिड प्रूफ की कॉपी अपलोड कर लेनी है। यह शिकायत सम्बंधित जिले के खाते में चली जाएगी और जिल्लाधिकारी तहसीलदार के खिलाफ़ ज़रूर से एक्शन लेगा।

ऑनलाइन शिकायत कैसे करना है इसके बारे में हमने ऑलरेडी एक detail लेख लिखा हुआ है, उसे ज़रूर से check करे।

तहसीलदार की शिकायत के लिए टोल फ्री नंबर

इसके अलावा आप एक कॉल करके भी शिकायत दर्ज करवा सकते हों। तहसील कार्यालय में भ्रष्टाचार रोकने के लिए राजस्व एवं आपदा प्रबंधन ने टोलफ्री नंबर भी जारी किया है।

टोल फ्री नम्बर 18001802137

आप इस टोल फ्री नंबर पर कॉल कर के आसानी से तहसीलदार की शिकायत दर्ज करवा सकते हों। और जल्दी से जल्दी तंत्र तहसीलदार पर कार्यवाही भी करेगी।

निष्कर्ष

आशा करते है की हम आपको यह बताने में सफल हुए की आप तहसीलदार की शिकायत कहाँ करें और कैसे कर सकते है। इस आर्टिकल में हमने आपको 3 तरीको से बताया है किस आप तहसीलदार की शिकायत कहाँ करें और कैसे कर सकते है।आपका इस आर्टिकल से जुड़ा कोई भी प्रशन या सुझाव है तो आप निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बताये। धन्यवाद!

Previous articleपोस्ट ऑफिस की शिकायत कहां करे? Post office ki shikayat kaha Karen
Next articleVidhwa Pension Kaise Check Kare | विधवा पेंशन कैसे चेक करें

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here